गुरुवार, 1 मार्च 2012

ये नहीं बदलते

लोगों को कहते सुना है

इस जमाने में

दोस्ती और प्रेम

स्थायी नहीं होते

मेरा मानना है

होते हैं...

पेड़, नदी, पहाड़, झरने

से दोस्ती करके तो देखो

ये उसी जगह खड़े मिलेंगे

जहां पहले थे

औरों की तरह ये नहीं बदलते

1 टिप्पणी: